कहती है…

आँखों में आँखें डालकर

तू दूर किया ना कर

यूँ मेरे साथ

इतने नख़रे किया ना कर॥

तेरे बिना तो मुझसे 

रहा भी नहीं जाएगा

तुझसे दूर होने का दुख़

सहा भी नहीं जाएगा॥

Follow us:
॥विरह॥
Share:

Post navigation


11 thoughts on “॥विरह॥

Leave a Reply

Your email address will not be published.