सर्दियां

सर्द हवाओं का रुख भी बेरहम कुछ इतना हो गया,
चुभन भी दी तो उन्हीं ज़ख्मों पर जो कुछ हरे हैं अभी…!

Share: