प्यार

मैं रेत बनूंगा, तुम दरिया बं जाना, मुझे छू कर आगे चले जाना। मैं रात बनूंगा, तुम उस रात की चांदनी बन जाना, अपनी चांदनी से मुझे रोशन कर जाना, मैं सूरज बनूंगा, तुम उस सूरज की किरणे ब बन

Read more

अरमान

अरमानों के मकान की छत नहीं होती… “वह तो जैसे एक गहरा कुआं है जो देह ख़तम कर दे पर कभी न भरे” फरमानों के लफ़्ज़ों की ज़ुबान नहीं होती… “वह तो बस लिख दिए जाते हैं जो ज़मीर भी

Read more

इतिहास हो तुम।

इतिहास का फड़क्ता वो पन्ना हो तुम, जो कभी पूरी ना हो सके, वो तमन्ना हो तुम। रगों में बेहते लहू का वो कतरा हो तुम, सिमटे तो पास, बहे तो नाश, वो खतरा हो तुम। देह में सिमटती आग

Read more

“तेरे वादे”

“कभी मैं तुम्हें उस चाँद की चाँदनी में ढूंढने की कोशिश करता हूँ, कभी उस डूबते सूरज की लालिमा में ढूंढने की कोशिश करता हूँ। वहाँ नहीं दिखती हो, तो अपने बगीचे के खुशबूदार फूलों में खोजने लगता हूँ, फिर

Read more

ख्वाब

हमारी ज़िन्दगी में ख्वाबों की अलग अलग जगह होती है इन्हीं ख्वाबों से तो कुछ पाने की ख्वाहिशें होती है इन ख्वाबों को पाने के लिए ही तो हमारी दुनिया से भी जंग होती है उमर के हर पड़ाव पर

Read more