ख्वाब

हमारी ज़िन्दगी में ख्वाबों की अलग अलग जगह होती है इन्हीं ख्वाबों से तो कुछ पाने की ख्वाहिशें होती है इन ख्वाबों को पाने के लिए ही तो हमारी दुनिया से भी जंग होती है उमर के हर पड़ाव पर

Read more

रहस्मयी कहानियां: कौन था बरोट-जोगिंदर नगर के बीच की पहाड़ी पर फंसे दोस्तों को बचाने वाला बुजुर्ग?

35-40 साल पहले की बात है लगभग। 10वीं में पढ़ता था और एक साल फेल हो चुका था। पढ़ाई में मन नहीं लगता था। ऊपर से घरवाले परेशान करते रहते। पिता जी थे नहीं तो जैसे-तैसे दादा की पेंशन से

Read more

अधूरापन

मैं आज भी खुद से पहले तेरे लिए सोचता हूं  मैं आज भी साँस से ज़्यादा तुझको ज़रूरी मानता हूं  मैंने तो इश्क़ किया है और इसे वफा से मैं निभाऊंगा  तू चाहे बेवफाई क्यूं ना करले  मैं तो सिर्फ

Read more

।।आज़ादी।।

जिसका शेर सा था हौंसला  जिसकी हाथियों सी थी चाल मौत भी डरती थी मिलाने को नज़रें जिसके साथ वो वीर था वो शेर था वो शहीद-ए-आज़म भगत सिंह था उसके जैसा सूरमा न किसी माँ ने कभी जनमा न

Read more

॥तक़दीर॥

उसके सिवा मेरा कोई नहीं ये बात मैं उसे समझाता रहा लड़ती भी वो थी रूठती भी वही मैं हाथ जोड़ जोड़ उसे मनाता रहा पता नहीं कैसे वो भूल गयी मुझे जिसे उस ख़ुदा से ज़्यादा मैं चाहता रहा।

Read more