।।आज़ादी।।

जिसका शेर सा था हौंसला  जिसकी हाथियों सी थी चाल मौत भी डरती थी मिलाने को नज़रें जिसके साथ वो वीर था वो शेर था वो शहीद-ए-आज़म भगत सिंह था उसके जैसा सूरमा न किसी माँ ने कभी जनमा न

Read more