पहले की तरह।

पिछले कुछ सालों में  बहुत बदल गयी है ज़िंदगी और इस ज़िंदगी के साथ  बदल गयी है तू भी पहले तू हँसती थी मुस्कुराती थी और गाती भी थी।।। तू अब भी हँसती है लेकिन वो हँसी अब कुछ दबी

Read more

॥ औरत ॥

औरतों का दर्जा ऊँचा होता है औरतों का औधा ऊँचा होता है बिन औरतों के तो हमारा घर सूना सूना सा होता है। घर एक पूजा है जिसका आशीर्वाद वे हैं। घर एक कहानी है जिसकी साहित्यकार वे हैं। घर

Read more